13.07.2020

"मीठे बच्चे - सभी को यह खुशखबरी सुनाओ कि अब फिर से विश्व में शान्ति स्थापन हो रही है, बाप आये हैं एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन करने''

प्रश्नः-

तुम बच्चों को बार-बार याद में रहने का इशारा क्यों दिया जाता है?

उत्तर:-

क्योंकि एवर हेल्दी और सदा पावन बनने के लिए है ही याद इसलिए जब भी टाइम मिले याद में रहो। सवेरे-सवेरे स्नान आदि कर फिर एकान्त में चक्र लगाओ या बैठ जाओ। यहाँ तो कमाई ही कमाई है। याद से ही विश्व के मालिक बन जायेंगे।

वरदान:-

विकारों रूपी सांप को भी शैया बनाने वाले विष्णु के समान सदा विजयी, निश्चितं भव

जो विष्णु की शेश शैया दिखाते हैं यह आप विजयी बच्चों के सहजयोगी जीवन का यादगार है। सहजयोग द्वारा विकारों रूपी सांप भी अधीन हो जाते हैं। जो बच्चे विकारों रूपी सांपों पर विजय प्राप्त कर उन्हें आराम की शैया बना देते हैं वह सदा विष्णु के समान हर्षित व निश्चितं रहते हैं। तो सदा यह चित्र अपने सामने देखो कि विकारों को अधीन किया हुआ अधिकारी हूँ। आत्मा सदा आराम की स्थिति में निश्चितं है।

स्लोगन:-

बालक और मालिक पन के बैलेन्स से प्लैन को प्रैक्टिकल में लाओ।