━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

 17 / 02 / 21  की  मुरली  से  चार्ट  

       TOTAL MARKS:- 100 

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

 

∫∫ 1 ∫∫ होमवर्क (Marks: 5*4=20)

 

➢➢ *?*

 

➢➢ *?*

 

➢➢ *?*

 

➢➢ *?*

────────────────────────

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

  ✰ *अव्यक्त पालना का रिटर्न*

         ❂ *तपस्वी जीवन*

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

✧  जैसे अपने स्थूल कार्य के प्रोग्राम को दिनचर्या प्रमाण सेट करते हो, ऐसे अपनी मन्सा समर्थ स्थिति का प्रोग्राम सेट करो तो कभी अपसेट नहीं होंगे। *जितना अपने मन को समर्थ संकल्पों में बिजी रखेंगे तो मन को अपसेट होने का समय ही नहीं मिलेगा। मन सदा सेट अर्थात् एकाग्र है तो स्वत: अच्छे वायब्रेशन फैलते हैं। सेवा होती है।*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

∫∫ 2 ∫∫ तपस्वी जीवन (Marks:- 10)

 

➢➢ *इन शिक्षाओं को अमल में लाकर बापदादा की अव्यक्त पालना का रिटर्न दिया ?*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

────────────────────────

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

*अव्यक्त बापदादा द्वारा दिए गए*

             ❂ *श्रेष्ठ स्वमान*

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

   *"मैं विश्व के अंदर कोटो में से कोई विशेष आत्मा हूँ"*

 

✧  सदा अपने को विश्व के अन्दर कोटो में से कोई हम हैं - ऐसे अनुभव करते हो? जब भी यह बात सुनते हो - कोटों से कोई, कोई में भी कोई तो वह स्वयं को समझते हो? जब हूबहू पार्ट रिपीट होता है तो उस रिपीट हुए पार्ट में हर कल्प आप लोग ही विशेष होंगे ना! ऐसे अटल विश्वास रहे। *सदा निश्चयबुद्धि सभी बातों में निश्चिन्त रहते हैं। निश्चय की निशानी है निश्चिन्त। चिन्तायें सारी मिट गई। बाप ने चिंताओंकी चिता से बचा लिया ना! चिंताओंकी चिता से उठाकर दिलतख्त पर बिठा दिया।* बाप से लगन लगी और लगन के आधार पर लगन की अग्नि में चिन्तायें सब ऐसे समाप्त हो गई जैसे थी ही नहीं। एक सेकण्ड में समाप्त हो गई ना! ऐसे अपने को शुभचिन्तक आत्मायें अनुभव करते हो!

 

  कभी चिंता तो नहीं रहती! न तन की चिंता, न मन में कोई व्यर्थ चिंता और न धन की चिंता। क्योंकि दाल रोटी तो खाना है और बाप के गुण गाना है। दाल रोटी तो मिलनी ही है। तो न धन की चिंता, न मन की परेशानी और न तन के कर्मभोग की भी चिंता। क्योंकि जानते हैं यह अन्तिम जन्म और अन्त का समय है इसमें सब चुक्तु होना है इसलिए सदा - 'शुभचिन्तक'। क्या होगा! कोई चिंता नहीं। ज्ञान की शक्ति से सब जान गये। जब सब कुछ जान गये तो क्या होगा, यह क्वेश्चन खत्म। क्योंकि ज्ञान है जो होगा वह अच्छे ते अच्छा होगा। तो सदा शुभचिन्तक, सदा चिन्ताओंसे परे निश्चय बुद्धि, निश्चिन्त आत्मायें, यही तो जीवन है। अगर जीवन में निश्चिन्त नहीं तो वह जीवन ही क्या है! ऐसी श्रेष्ठ जीवन अनुभव कर रहे हो? परिवार की भी चिन्ता तो नहीं है? *हरेक आत्मा अपना हिसाब किताब चुक्तु भी कर रही है और बना भी रही है इसमें हम क्या चिंता करें! कोई चिंता नहीं। पहले चिता पर जल रहे थे अभी बाप ने अमृत डाल जलती चिता से मरजीवा बना दिया। जिंदा कर दिया।* जैसे कहते हैं मरे हुए को जिंदा कर दिया। तो बाप ने अमृत पिलाया और अमर बना दिया। मरे हुए मुर्दे के समान थे और अब देखो क्या बन गये। मुर्दे से महान बन गये। पहले कोई जान नहीं थी तो मुर्दे समान ही कहेंगे ना।

 

  भाषा भी क्या बोलते थे, अज्ञानी लोग भाषा में बोलते हैं - मर जाओ ना। या कहेंगे हम मर जाए तो बहुत अच्छा। अब तो मरजीवा हो गये, विशेष आत्मायें बन गये। यही खुशी है ना। *जलती हुई चिता से अमर हो गये, यह कोई कम बात है! पहले सुनते थे भगवान मुर्दे को भी जिंदा करता है, लेकिन कैसे करता यह नहीं समझते थे। अभी समझते हो हम ही जिंदा हो गये तो सदा नशे और खुशी में रहो।*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

∫∫ 3 ∫∫ स्वमान का अभ्यास (Marks:- 10)

 

➢➢ *इस स्वमान का विशेष रूप से अभ्यास किया ?*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

────────────────────────

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

         ❂ *रूहानी ड्रिल प्रति*

*अव्यक्त बापदादा की प्रेरणाएं*

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

✧  *स्वराज्य अधिकारी की सीट से कभी भी नीचे नहीं आओ। अगर कर्मन्द्रियाँ ऑर्डर पर रहेंगी तो हर शक्ति भी आपके ऑर्डर में रहेगी।* जिस शक्ति की जिस समय आवश्यकता है उस समय जी हाजिर हो जायेगी। ऐसे नहीं काम पूरा हो जाए और आप ऑर्डर करो सहनशक्ति आओ, काम पूरा हो जाये फिर आवे।

 

✧  हर शक्ति आपके ऑर्डर पर जी हाजिर होगी क्योंकि यह हर शक्ति परमात्म देन है। तो परमात्म देन आपकी चीज हो गई। *तो अपनी चीज को जैसे भी यूज करो, जब भी यूज करो, ऐसे यह सर्व शक्तियाँ आपके ऑर्डर पर रहेंगी, सर्व कर्मेन्द्रियाँ आपके ऑर्डर पर रहेंगी, इसको कहा जाता है स्वराज्य अधिकारी, मास्टर सर्वशक्तिवान। ऐसे है पाण्डव?*

 

✧  मास्टर सर्वशक्तिवान भी हैं और स्वराज्य अधिकारी भी हैं। *ऐसे नहीं कहना कि मुख से निकल गया, किसने ऑर्डर दिया जो निकल गया! देखने नहीं चाहते थे, देख लिया। करने नहीं चाहते थे, कर लिया।* यह किसके

ऑर्डर पर होता है? इसको अधिकारी कहेंगे या अधीन कहेंगे? तो अधिकारी बनी, अधीन नहीं। अच्छा।

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

∫∫ 4 ∫∫ रूहानी ड्रिल (Marks:- 10)

 

➢➢ *इन महावाक्यों को आधार बनाकर रूहानी ड्रिल का अभ्यास किया ?*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

────────────────────────

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

         ❂ *अशरीरी स्थिति प्रति*

*अव्यक्त बापदादा के इशारे*

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

〰✧  एक सेकण्ड में आवाज़ में आना एक सेकण्ड में आवाज़ से परे हो जाना ऐसा अभ्यास इस वर्तमान समय में बहुत आवश्यक है। *वह समय भी आयेगा। जैसे-जैसे अव्यक्त स्थिति में स्थित होते जायेंगे वैसे-वैसे नयनों के इशारों से किसके मन के भाव को जान जायेंगे। कोई से बोलने व सुनने की आवश्यकता नहीं होगी।*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

∫∫ 5 ∫∫ अशरीरी स्थिति (Marks:- 10)

 

➢➢ *इन महावाक्यों को आधार बनाकर अशरीरी अवस्था का अनुभव किया ?*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

────────────────────────

 

∫∫ 6 ∫∫ बाबा से रूहरिहान (Marks:-10)

( आज की मुरली के सार पर आधारित... )

 

 

────────────────────────

 

∫∫ 7 ∫∫ योग अभ्यास (Marks:-10)

( आज की मुरली की मुख्य धारणा पर आधारित... )

 

 

────────────────────────

 

∫∫ 8 ∫∫ श्रेष्ठ संकल्पों का अभ्यास (Marks:- 5)

( आज की मुरली के वरदान पर आधारित... )

 

 

 

➢➢ इस संकल्प को आधार बनाकर स्वयं को श्रेष्ठ संकल्पों में स्थित करने का अभ्यास किया ?

────────────────────────

 

∫∫ 9 ∫∫ श्रेष्ठ संकल्पों का अभ्यास (Marks:- 5)

( आज की मुरली के स्लोगन पर आधारित... )

 

 

 

➢➢ इस संकल्प को आधार बनाकर स्वयं को श्रेष्ठ संकल्पों में स्थित करने का अभ्यास किया ?

────────────────────────

 

∫∫ 10 ∫∫ अव्यक्त मिलन (Marks:-10)

( अव्यक्त मुरलियों पर आधारित... )

 

 अव्यक्त बापदादा :-

 

 _ ➳  *अपने अनादि रायल्टी को याद करो, जब आप आत्मायें परमधाम में भी रहती हो तो आत्मा रूप में भी आपकी रूहानी रायल्टी विशेष है*। सर्व आत्मायें भी लाइट रूप में हैं लेकिन *आपकी चमक सर्व आत्माओं में श्रेष्ठ है*। याद आ रहा है परमधाम? अनादि काल से आपकी झलक फलक न्यारी है। जैसे आकाश में देखा होगा सितारे सभी चमकते हैं, सब लाइट ही हैं लेकिन सर्व सितारों में कोई विशेष सितारों की चमक न्यारी और प्यारी होती है। ऐसे ही सर्व आत्माओं के बीच आप आत्माओं की चमक रूहानी रायल्टी, प्युरिटी की चमक न्यारी है।

 

 _ ➳  याद आ रहा है ना? फिर आदिकाल में आओ, *आदिकाल को याद करो तो आदिकाल में भी देवता स्वरूप में रूहानी रायल्टी की पर्सनालिटी कितनी विशेष रही*? सारे कल्प में देवताई स्वरूप की रायल्टी और किसी की रही है? *रूहानी रायल्टी, प्युरीटी की पर्सनालिटी या है ना!* पाण्डवों को भी याद है? याद आ गया? *फिर मध्यकाल में आओ तो मध्यकाल द्वापर से लेकर आपके जो पूज्य चित्र बनाते हैं, उन चित्रों की रायल्टी और पूजा की रायल्टी द्वापर से अभी तक किसी चित्र की है? चित्र तो बहुतों के हैं लेकिन ऐसे विधिपूर्वक पूजा और किसी आत्माओं की है*? चाहे धर्म पितायें हैं, चाहे नेतायें है, चाहे अभिनेतायें हैं, चित्र तो सबके बनते लेकिन चित्रों की रायटी और पूजा की रायल्टी किसी की देखी है? डबल फारेनर्स ने अपनी पूजा देखी है? आप लोगों ने देखी है या सिर्फ सुना है? ऐसे विधिपूर्वक पूजा और चित्रों की चमक, रूहानियत और किसकी भी नहीं हुई है, न होगी। क्यों?

 

 _ ➳  *प्युरिटी की रायल्टी है। प्युरिटी की पर्सनाल्टी है*। अच्छा देख लिया अपनी पूजा? नहीं देखी हो तो देख लेना। *अभी लास्ट में संगमयुग पर आओ तो संगम पर भी सारे विश्व के अन्दर प्युरिटी की रायल्टी ब्राह्मण जीवन का आधार है। प्युरिटी नहीं तो प्रभु प्यार का अनुभव भी नहीं*। सर्व परमात्म प्राप्तियों का अनुभव नहीं। *ब्राह्मण जीवन की पर्सनालिटी प्युरिटी है और प्युरिटी ही रूहानी रायल्टी है। तो आदि अनादि, आदि मध्य और अन्त सारे कल्प में यह रूहानी रायल्टी चलती है*।

 

✺   *ड्रिल :-  "सारे कल्प में अपनी प्यूरिटी की रायल्टी का अनुभव करना"*

 

 _ ➳  अनादि स्वरूप में मैं आत्मा परमधाम में... *देख रही हूँ अपनी रूहानी राॅयल्टी को*... मैं शिव पिता की किरणों के एकदम नीचे... *प्रकाश का सतरंगी इन्द्रधनुष मुझ राॅयल आत्मा की रूहानी चमक को और भी राॅयल बना रहा है*... सप्तरंगी प्रकाश की ये किरणे फूलझडियों की तरह अन्य चमकती आत्मा मणियों को भी राॅयल्टी से भरपूर कर रही है... *मेरे अस्तित्व से निरन्तर बहता पावनता का झरना...* और उस झरने के नीचे मुझ जैसी राॅयल्टी से भरपूर होने की चाहत में मेरी ओर निहारती अन्य असंख्य झिलमिलाती आत्माए...

 

 _ ➳  *आदिकाल में मै आत्मा देव स्वरूप में*... मेरी सम्पूर्ण सतोप्रधान अवस्था... *लाईट और माईट के ताज से सुसज्जित मैं विराजमान हूँ अपने शाही विमान पर*... घूमघूम कर देख रहा हूँ अपनी समस्त प्रजा और प्रकृति को... दोनो ही हर प्रकार से सन्तुष्ट और आनन्दित प्रतीत हो रही है... *फलों से लदे विनम्रता से झुके ये वृक्ष, मेरा अभिनन्दन करती पवन... मेरा अभिवादन करते बादल... मेरा अनुगमन करते चाँद और तारें... सब मेरी पावनता की ही विरासत है ये*...

 

 _ ➳  अब मैं आत्मा मध्य काल में... *ऊँचे शिखर पर विशाल भव्य मन्दिर*... भजन कीर्तन की मधुर झंकार... मन्दिर में मेरे दर्शनों के लिए लम्बी कतार... *मेरे जड चित्रों की विधि विधान से होती पूजा... भक्तों का  अपार भक्ति भाव, पूरी होती उनकी कामनाए मेरी शक्तियों में पदम गुणा बढोतरी कर रही है... ये सब मेरी पावनता का ही पसारा है... मैं देख रही हूँ मेरे जडचित्रों की प्यूरिटी की राॅयल्टी से भक्त आत्माओं की मनोकामनाए पूरी हो रही है*...

 

 _ ➳  और मेरा अन्तिम जन्म... *संगम पर मैं ब्राह्मण आत्मा मनसा वाचा और कर्मणा अपनी पावनता से संसार की सभी आत्माओं को पावनता की अंजली दे रही हूँ*... प्रकृति मेरे वायब्रैशन्स से पावन होती जा रही है... *संकल्पों की पावनता से मैने बाँध लिया है अपने स्नेह में निर्बंधन रूहानी माशूक को*... हर पल मैं उसके प्यार का और साथ का अनुभव कर रही हूँ... पावनता का सूर्य मेरे मस्तिष्क के ऊपर... और मै आत्मा भरपूर कर रही हूँ स्वयं को उस पावनता और प्रेम की शक्तियों से...

 

 _ ➳  आदि, अनादि, मध्य और सारे कल्प में स्वयं की प्यूरिटी की राॅयल्टी का बारी बारी से दर्शन करती मैं आत्मा... *इमर्ज कर  रही हूँ अपनी सम्पूर्ण पावनता के संस्कारो को... और अब बस एक ही संकल्प बार बार दृढ हो रहा है... इसी एक स्वमान में स्थित मैं आत्मा... मैं हूँ ही कल्प कल्प की प्योरिटी की राॅयल आत्मा... कल्प कल्प की महान पावन आत्मा... पावनता की गहरी अनुभूति कर उसका स्वरूप बनती मैं पावन आत्मा...*

 

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

 

_⊙  आप सभी बाबा के प्यारे प्यारे बच्चों से अनुरोध है की रात्रि में सोने से पहले बाबा को आज की मुरली से मिले चार्ट के हर पॉइंट के मार्क्स ज़रूर दें ।

 

ॐ शांति

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━