━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

 19 / 02 / 21  की  मुरली  से  चार्ट  

       TOTAL MARKS:- 100 

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

 

∫∫ 1 ∫∫ होमवर्क (Marks: 5*4=20)

 

➢➢ *?*

 

➢➢ *?*

 

➢➢ *?*

 

➢➢ *?*

────────────────────────

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

  ✰ *अव्यक्त पालना का रिटर्न*

         ❂ *तपस्वी जीवन*

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

✧  हर समय, हर आत्मा के प्रति मन्सा स्वत: शुभभावना और शुभकामना के शुद्ध वायब्रेशन वाली स्वयं को और दूसरों को अनुभव हो। मन से हर समय सर्व आत्माओं प्रति दुआयें निकलती रहें। मन्सा सदा इसी सेवा में बिजी रहे। *जैसे वाचा की सेवा में बिजी रहने के अनुभवी हो गये हो। अगर सेवा नहीं मिलती तो अपने को खाली अनुभव करते हो। ऐसे हर समय वाणी के साथ साथ मन्सा सेवा स्वत: होती रहे।*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

∫∫ 2 ∫∫ तपस्वी जीवन (Marks:- 10)

 

➢➢ *इन शिक्षाओं को अमल में लाकर बापदादा की अव्यक्त पालना का रिटर्न दिया ?*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

────────────────────────

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

*अव्यक्त बापदादा द्वारा दिए गए*

             ❂ *श्रेष्ठ स्वमान*

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

   *" मैं श्रेष्ठ भाग्यवान आत्मा हूँ"*

 

✧   सदा अपने को श्रेष्ठ भाग्यवान अनुभव करते हो? जिसका बाप ही भाग्यविधाता हो वह कितना न भाग्यवान होगा! भाग्यविधाता बाप है तो वह वर्से में क्या देगा? जरूर श्रेष्ठ भाग्य ही देगा ना! सदा भाग्यविधाता बाप और भाग्य दोनों ही याद रहें। *जब अपना श्रेष्ठ भाग्य स्मृति में रहेगा तब औरों को भी भाग्यवान बनाने का उमंग उत्साह रहेगा। क्योंकि दाता के बच्चे हो।* भाग्य विधाता बाप ने बह्मा द्वारा भाग्य बाँटा, तो आप ब्रह्मण भी क्या करेंगे?

 

  जो ब्रह्मा का काम, वह ब्रह्मणों का काम। तो ऐसे भाग्य बाँटने वाले। वे लोग कपड़ा बाँटेंगे, अनाज बाँटेंगे, पानी बाँटेंगे लेकिन श्रेष्ठ भाग्य तो भाग्य विधाता के बच्चे ही बाँट सकते। *तो भाग्य बाँटने वाली श्रेष्ठ भाग्यवान आत्मायें हो। जिसे भाग्य प्राप्त है उसे सब कुछ प्राप्त है।* वैसे अगर आज किसी को कपड़ा देंगे तो कल अनाज की कमी पड़ जायेगी, कल अनाज देंगे तो पानी की कमी पड़ जायेगी। एक-एक चीज कहाँ तक बाँटेंगे। उससे तृप्त नहीं हो सकते। लेकिन अगर भाग्य बाँटा तो जहाँ भाग्य है वहाँ सब कुछ है।*

 

  *वैसे भी कोई को कुछ प्राप्त हो जाता है तो कहते हैं - वाह मेरा भाग्य! जहाँ भाग्य है वहाँ सब प्राप्त है। तो आप सब श्रेष्ठ भाग्य का दान करने वाले हो। ऐसे श्रेष्ठ महादानी, श्रेष्ठ भाग्यवान। यही स्मृति सदा उड़ती कला में ले जायेगी। जहाँ श्रेष्ठ भाग्य की स्मृति होगी वहाँ सर्व प्राप्ति की स्मृति होगी।* इस भाग्य बाँटने में फ़राखदिल बनो। यह अखुट है। जब थोड़ी चीज होती है तो उसमें कन्जूसी की भावना आ सकती लेकिन यह अखुट है इसलिए बाँटते जाओ। सदा देते रहो, एक दिन भी दान देने के सिवाए न हो। सदा के दानी सारा समय अपना खजाना खुला रखते हैं। एक घण्टा भी दान बन्द नहीं करते। ब्रह्मणों का काम ही है सदा विधा लेना और विधा का दान करना। तो इसी कार्य में सदा तत्पर रहो।

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

∫∫ 3 ∫∫ स्वमान का अभ्यास (Marks:- 10)

 

➢➢ *इस स्वमान का विशेष रूप से अभ्यास किया ?*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

────────────────────────

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

         ❂ *रूहानी ड्रिल प्रति*

*अव्यक्त बापदादा की प्रेरणाएं*

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

✧  बापदादा देख रहे थे कि देहभान क स्मृति में रहने में क्या मेहनत की - मैं फलाना हूँ मैं फलाना हूँ यह मेहनत की? नेचरल रहा ना नेचर बन गई ना बॉडी कान्सेस की। *इतनी पक्की नेचर हो गई जो अभी भी कभी-कभी कई बच्चों को आत्मअभिमानी बनने के समय बॉडी कान्सेसनेस अपने तरफ आकर्षित कर लेती है।* सोचते हैं मैं आत्मा हूँ मैं आत्मा हूँ, लेकिन देहभान ऐसा नेचरल रहा है जो बार-बार न चाहते, न सोचते देहभान में आ जाते हैं।

 

✧  *बापदादा कहते हैं अब मरजीवा जन्म में आत्मअभिमान अर्थात देही-अभिमानी स्थिति भी ऐसे ही नेचर और नेचरल हो।* मेहनत नहीं करनी पडे - मैं आत्मा हूँ, मैं आत्मा हूँ। जैसे कोई भी बच्चा पैदा होता है और जब उसे थोडा समझ में आता है तो उसको परिचय देते हैं आप कौन हो, किसके हो, ऐसे ही जब ब्राह्मण जन्म लिया तो आप ब्राह्मण बच्चों को जन्मते ही क्या परिचय मिला?

 

✧  आप कौन हो? आत्मा का पाठ पक्का कराया गया ना! तो पहला परिचय नेचरल नेचर बन जाए। नेचर नेचरल और निरंतर रहती है, याद करना नहीं पडता। *ऐसे हर ब्राह्मण और नेचरल स्मृति स्वरूप बनना ही है। लास्ट अंतिम पेपर सभी व्राह्मणों का यही छोटा-सा है - नष्टोमोहा स्मृतिस्वरूपा?*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

∫∫ 4 ∫∫ रूहानी ड्रिल (Marks:- 10)

 

➢➢ *इन महावाक्यों को आधार बनाकर रूहानी ड्रिल का अभ्यास किया ?*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

────────────────────────

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

         ❂ *अशरीरी स्थिति प्रति*

*अव्यक्त बापदादा के इशारे*

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

〰✧  यह जो आजकल की सर्विस कर रहे हो उसमें विशेषता क्या चाहिए? *भाषण तो वर्षों कर ही रहे हो लेकिन अब भाषणों में भी क्या अव्यक्त स्थिति भरनी है?जो बात करते हुए भी सभी ऐसे अनुभव करें कि यह तो जैसे कि अशरीरी, आवाज़ से परे न्यारे स्थिति में स्थित होकर बोल रहे हैं।* अब इस सम्मेलन में यह नवीनता होनी चाहिए।

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

∫∫ 5 ∫∫ अशरीरी स्थिति (Marks:- 10)

 

➢➢ *इन महावाक्यों को आधार बनाकर अशरीरी अवस्था का अनुभव किया ?*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

────────────────────────

 

∫∫ 6 ∫∫ बाबा से रूहरिहान (Marks:-10)

( आज की मुरली के सार पर आधारित... )

 

 

────────────────────────

 

∫∫ 7 ∫∫ योग अभ्यास (Marks:-10)

( आज की मुरली की मुख्य धारणा पर आधारित... )

 

 

────────────────────────

 

∫∫ 8 ∫∫ श्रेष्ठ संकल्पों का अभ्यास (Marks:- 5)

( आज की मुरली के वरदान पर आधारित... )

 

 

 

➢➢ इस संकल्प को आधार बनाकर स्वयं को श्रेष्ठ संकल्पों में स्थित करने का अभ्यास किया ?

────────────────────────

 

∫∫ 9 ∫∫ श्रेष्ठ संकल्पों का अभ्यास (Marks:- 5)

( आज की मुरली के स्लोगन पर आधारित... )

 

 

 

➢➢ इस संकल्प को आधार बनाकर स्वयं को श्रेष्ठ संकल्पों में स्थित करने का अभ्यास किया ?

────────────────────────

 

∫∫ 10 ∫∫ अव्यक्त मिलन (Marks:-10)

( अव्यक्त मुरलियों पर आधारित... )

 

 अव्यक्त बापदादा :-

 

 _ ➳  प्युरिटी की वृत्ति है - शुभ भावना, शुभ कामना। कोई कैसा भी हो लेकिन पवित्र वृत्ति अर्थात् शुभ भावना, शुभ कामना और पवित्र दृष्टि अर्थात् सदा हर एक को आत्मिक रूप में देखना वा फरिश्ता रूप में देखना। तो वृत्ति, दृष्टि और तीसरा है कृति अर्थात् कर्म में, तो कर्म में भी सदा हर आत्मा को सुख देना और सुख लेना। यह है प्युरिटी की निशानी। वृत्ति, दृष्टि और कृति तीनों में यह धारणा हो। *कोई क्या भी करता है, दुःख भी देता है, इन्सल्ट भी करता है, लेकिन हमारा कर्तव्य क्या है? क्या दुःख देने वाले को फालो करना है या बापदादा को फालो करना है? फालो फादर है ना! तो ब्रह्मा बाप ने दुःख दिया वा सुख दिया? सुख दिया ना! तो आप मास्टर ब्रह्मा अर्थात् ब्राह्मण आत्माओं को क्या करना है?*

 

✺   *ड्रिल :-  "वृत्ति, दृष्टि, कृति में प्युरिटी का अनुभव करना"*

 

 _ ➳  इस संसार सागर में रहते हुए कर्म करते हुए मैं आत्मा थक कर अपनी सर्व कर्मेन्द्रियों को समेट कर शान्त अवस्था में बैठी हूँ... *धीरे धीरे इस देह से हल्की होती जा रही हूँ और स्वयं को इस देह से अलग एक आत्मा देख रही हूँ...* मस्तक के मध्य एक सितारे की भांति चमक रही हूँ... अब इस स्थूल देह से निकल कर अपने फरिश्ता स्वरूप में आ गयी हूँ... और इस साकारी दुनिया से उड़ कर ऊपर की ओर जा रही हूँ... उड़ते उड़ते सूक्ष्मवतन में आकर ठहरती हूँ...

 

 _ ➳  यहां आकर असीम शांति का अनुभव कर रही हूँ... चारों ओर सफेद रंग का चमकीला प्रकाश फैला हुआ है... अब थोड़ा और आगे चलने पर अपने ब्रह्मा बाबा को अपने सामने पाती हूँ... *सफेद चांदनी में नहाये बाबा बाँहे फैलाये मेरा स्वागत कर रहे हैं और मैं उनके सम्मुख जाकर बैठ जाती हूँ... बाबा की मीठी दृष्टि मुझ पर पड़ने से मैं फरिश्ता भी चमकने लगता हूँ...* और बाबा से निकल कर सफेद प्रकाश की ये चमकीली और शक्तिशाली किरणें मुझमें असीम ऊर्जा का संचार कर रही हैं...

 

 _ ➳  मैं बाबा के प्यार में समाती जा रही हूँ... बेहद सुख का अनुभव कर रही हूँ... *मैं अपने प्यारे ब्रह्मा बाबा के रूहानी चेहरे को निहार रही हूँ, कितनी प्योरिटी उनके चेहरे में दिखाई दे रही है...* उनके नयनों में आत्मिक प्यार चमक रहा है... मैं आत्मा विचार करती हूँ कि मुझे भी अपने सम्पर्क में आने वाली सभी आत्माओ को ऐसी ही आत्मिक दृष्टि देनी है... आज सभी आत्मायें इस कलियुग के प्रभाव में आकर अपने मूल देवताई संस्कारों को भूल चुकी हैं... और आसुरी संस्कारों को अपने संस्कार बना चुकी हैं...

 

 _ ➳  मैं आत्मा अपने लौकिक जीवन से जुड़ी सभी आत्माओ को अपने सामने इमर्ज करती हूँ... इन सभी को मैं यहाँ फरिश्ता रुप में देख रही हूँ मेरी आत्मिक दृष्टि इन सब पर पड़ रही है... *इनकी सभी कमी कमज़ोरियों को देखते हुए भी नहीं देखती और इन सबको प्योर वाइब्रेशन दे उनकी कमियों को दूर करने में उनकी मदद कर रही हूँ...* इन सभी आत्माओ के लिए मेरे मन में शुभभावना और शुभकामना है...

 

 _ ➳  कुछ आत्माओ के स्वभाव संस्कार के कारण मुझे कुछ परेशानी भी होती है तो भी मैं उनके प्रति मेरी वृति पवित्र है... *कोई दुख भी देता है तो भी मैं उसे सुख देती हूँ क्योंकि मेरे ब्रह्मा बाबा को मैं अपने इस संगमयुगी ब्राह्मण जीवन में फॉलो कर रही हूँ...* मेरे ब्रह्मा बाबा ने भी कभी किसी को दुख नहीं दिया बल्कि दुख देने वालों को भी सुख दिया... मैं आत्मा भी ब्रह्मा बाप के कदम पर कदम रखकर स्वयं को सम्पूर्णता की ओर बढ़ा रही हूँ...

 

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

 

_⊙  आप सभी बाबा के प्यारे प्यारे बच्चों से अनुरोध है की रात्रि में सोने से पहले बाबा को आज की मुरली से मिले चार्ट के हर पॉइंट के मार्क्स ज़रूर दें ।

 

ॐ शांति

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━