━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

 20 / 02 / 21  की  मुरली  से  चार्ट  

       TOTAL MARKS:- 100 

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

 

∫∫ 1 ∫∫ होमवर्क (Marks: 5*4=20)

 

➢➢ *?*

 

➢➢ *?*

 

➢➢ *?*

 

➢➢ *?*

────────────────────────

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

  ✰ *अव्यक्त पालना का रिटर्न*

         ❂ *तपस्वी जीवन*

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

✧  जितना अभी तन, मन, धन और समय लगाते हो, उससे *मन्सा शक्तियों द्वारा सेवा करने से बहुत थोड़े समय में सफलता ज्यादा मिलेगी।* अभी जो अपने प्रति कभी-कभी मेहनत करनी पड़ती है-अपनी नेचर को परिवर्तन करने की वा संगठन में चलने की वा सेवा में सफलता कभी कम देख दिलशिकस्त होने की, यह सब समाप्त हो जायेगी।

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

∫∫ 2 ∫∫ तपस्वी जीवन (Marks:- 10)

 

➢➢ *इन शिक्षाओं को अमल में लाकर बापदादा की अव्यक्त पालना का रिटर्न दिया ?*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

────────────────────────

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

*अव्यक्त बापदादा द्वारा दिए गए*

             ❂ *श्रेष्ठ स्वमान*

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

   *"मैं सर्व बन्धनों से मुक्त डबल लाइट आत्मा हूँ"*

 

✧  सदा अपने को डबल लाइट अर्थात् सर्व बन्धनों से मुक्त हल्के समझते हो? हल्के-पन की निशानी क्या है? *हल्का सदा उड़ता रहेगा। बोझ नीचे ले आता है। सदा स्वयं को बाप के हवाले करने वाले सदा हल्के रहेंगे।*

 

✧  *अपनी जिम्मेवारी बाप को दे दो अर्थात अपना बोझ बाप को दे दो तो स्वयं हल्के हो जायेंगे। बुद्धि से सरेन्डर हो जाओ। अगर बुद्धि से सरेन्डर होंगे तो और कोई बात बुद्धि में नहीं आयेगी।*

 

  *बस सब कुछ बाप का है, सब कुछ बाप में है तो और कुछ रहा ही नहीं। जब रहा ही नहीं तो बुद्धि कहाँ जायेगी कोई पुरानी गली, पुराने रास्ते रह तो नहीं गये हैं! बस एक बाप, एक ही याद का रास्ता, इसी रास्ते से मंजिल पर पहुँचो।*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

∫∫ 3 ∫∫ स्वमान का अभ्यास (Marks:- 10)

 

➢➢ *इस स्वमान का विशेष रूप से अभ्यास किया ?*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

────────────────────────

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

         ❂ *रूहानी ड्रिल प्रति*

*अव्यक्त बापदादा की प्रेरणाएं*

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

✧  बापदादा बच्चों के निमित बन नि:स्वार्थ विश्व सेवा को देख खुश होते हैं। *बापदादा करावनहार हो, करनहार बच्चों के हर कदम को देख खुश होते हैं क्योंकि सेवा की सफलता का विशेष अधार ही है - करावनहार बाप मुझ करनहार आत्मा द्वारा करा रहा है।*

 

✧  *मैं आत्मा निमित हूँ क्योंकि निमित भाव से निर्मान स्थिति स्वतः हो जाती है।* मैं-पन जो देहभान में लाता है वह स्वतः निर्मान भाव से समाप्त हो जाता है।

 

✧  *इस ब्राह्मण जीवन में सबसे ज्यादा विघ्न रूप बनता है तो देहभान का मैं-पना करावनहार करा रहा है, मैं निमित करनहार बन कर रहा हूँ, तो सहज देह-अभिमान मुक्त बन जाते हैं और जीवनमुक्ति का मजा अनुभव करते हैं।*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

∫∫ 4 ∫∫ रूहानी ड्रिल (Marks:- 10)

 

➢➢ *इन महावाक्यों को आधार बनाकर रूहानी ड्रिल का अभ्यास किया ?*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

────────────────────────

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

         ❂ *अशरीरी स्थिति प्रति*

*अव्यक्त बापदादा के इशारे*

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

〰✧  अब मास्टर सर्वशक्तिवान का नशा कम रहता है, इसलिए एक सेकण्ड में आवाज़ में आना, एक सेकण्ड में आवाज़ से परे हो जाना इस शक्ति की प्रैक्टिकल-झलक चेहरे पर नहीं देखते। जब ऐसी अवस्था हो जायेगी, *अभी-अभी आवाज़ में, अभी-अभी आवाज़ से परे। यह अभ्यास सरल और सहज हो जायेगा तब समझो सम्पूर्णता आई है। सम्पूर्ण स्टेज की निशानी यह है।*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

 

∫∫ 5 ∫∫ अशरीरी स्थिति (Marks:- 10)

 

➢➢ *इन महावाक्यों को आधार बनाकर अशरीरी अवस्था का अनुभव किया ?*

 

゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚✰✧゚゚

────────────────────────

 

∫∫ 6 ∫∫ बाबा से रूहरिहान (Marks:-10)

( आज की मुरली के सार पर आधारित... )

 

 

────────────────────────

 

∫∫ 7 ∫∫ योग अभ्यास (Marks:-10)

( आज की मुरली की मुख्य धारणा पर आधारित... )

 

 

────────────────────────

 

∫∫ 8 ∫∫ श्रेष्ठ संकल्पों का अभ्यास (Marks:- 5)

( आज की मुरली के वरदान पर आधारित... )

 

 

 

➢➢ इस संकल्प को आधार बनाकर स्वयं को श्रेष्ठ संकल्पों में स्थित करने का अभ्यास किया ?

────────────────────────

 

∫∫ 9 ∫∫ श्रेष्ठ संकल्पों का अभ्यास (Marks:- 5)

( आज की मुरली के स्लोगन पर आधारित... )

 

 

 

➢➢ इस संकल्प को आधार बनाकर स्वयं को श्रेष्ठ संकल्पों में स्थित करने का अभ्यास किया ?

────────────────────────

 

∫∫ 10 ∫∫ अव्यक्त मिलन (Marks:-10)

( अव्यक्त मुरलियों पर आधारित... )

 

 अव्यक्त बापदादा :-

 

 _ ➳  बाप आपकी हर सेवा में सहयोग देने वाले हैं *बापदादा सभी बच्चों को कहते हैं कि आप सभी 'आप और बाप' कम्बाइण्ड हैं। तो कम्बाइण्ड हैं तो सिंगल हुए क्या*? लौकिक जीवन अलग चीज है, लेकिन ब्राह्मण जीवन में कम्बाइण्ड रूप में हो। *ऐसे कम्बाइण्ड हो जो कोई भी अलग नहीं कर सकता*। ऐसे कम्बाइण्ड हो ना? या अकेले हो? कम्बाइण्ड हो। *सदा बाप हर कार्य में सहयोगी हैं, साथी हैं*। यह नशा रहता है ना? *कभी अपने को अकेले तो नहीं समझते? कभी-कभी समझते हो*? नहीं। पहले *बापदादा आप सबका साथी है और अविनाशी साथ निभाने वाले है। बाबा कहा और बाबा हाजिर है। कहते हैं हजूर सदा हाजिर है। तो मौज में रहते हो ना*? उदास तो नहीं होते? होते हैं? हाँ ना नहीं करते? उदास तो नहीं है ना? मौज में रहते हो ना! *मौज ही मौज है, हम बाप के, बाप हमारे*। *बाप आपकी हर सेवा में सहयोग देने वाले हैं। इसलिए इसी रूहानी नशे में सदा रहना* - हम कम्बाइण्ड हैं। कम्बाइण्ड हैं ना? बहुत अच्छे रूहानी नशे वाले हैं। नशा है ना? बापदादा को अति प्रिय से भी प्रिय हैं।

 

✺   *ड्रिल :-  "सदा कम्बाइण्ड स्वरूप के रूहानी नशे में रहने का अनुभव"*

 

 _ ➳  *फूल और खूशबू... सागर और लहरें... बादल और बरखा... सूरज और धूप जैसे कम्बाइंड है, वैसे ही संगम पर शिव से कम्बाइंड मैं शिव शक्ति*... उनकी सारी शक्तियाँ और गुण मेरी अमानतें है... मैं आत्मा भृकुटी तख्त पर कम्बाइन्ड रूप में... दूर दूर तक फैलता आत्मिक गुणों का प्रकाश... और इस प्रकाश की परिधि में आने वाली हर आत्मा सुख शान्ति और पवित्रता की गहरी अनुभूति कर रही है... मुझ आत्मा का अविनाशी सहारा, अविनाशी साथी... हर पल  हर सेवा में मेरा सहयोगी...

 

 _ ➳  उस रूहानी माशूक के संग के नशे में चूर मैं आत्मा... मेरे हर सकंल्प, हर बोल, हर कर्म में रूहानियत... *धडकनों में बाबा शब्द की सरगम साफ साफ सुनाई दे रही है*... और देख रही हूँ... फरिश्ता स्वरूप बापदादा को... *जो मेरे सम्मुख खडे हो गये है मेरे धडकनों की आवाज सुनकर*... मुस्कुराते हुए आगे बढकर मेरे सर पर हाथ रख दिया है उन्होनें... *उनके हाथों का  ये कोमल स्पर्श हर उदासी से, हर रंजो गम से बेपरवाह कर रहा है, मुझे*...

 

 _ ➳  *सदा मौजों में रहने का वरदान दे रहे है बाबा मुझे*... वरदान की शक्तियों को स्वयं में समाती जा रही हूँ मैं... रूहानी नशे में चूर, मैं बिन्दु रूप में सिमटती जा रही हूँ... *मैं आत्मा जा पहुँची हूँ परमधाम में*... एक एक आत्मा मणि को बेहद ध्यान से देखती हुई... *चमकती हुई हर आत्मा अपने अपने सैक्शन में*... अपनी पवित्रता का प्रकाश फैलाती हुई... दूर दूर तक शान्ति का अटल साम्राज्य...

 

 _ ➳  *हर आत्मा को बेहद करीब से अनुभव करती हुई... मैं देख रही हूँ शिव बिन्दु को*... मन की आँखों से उनके स्नेह का पान करती हुई मैं एकदम उनके करीब आकर कुछ पल के लिए स्थिर हो गयी हूँ... *झरने के नीचे जैसे घट रख दिया हो किसी ने... उनके पावन से स्नेह से स्वयं को भरपूर करती हुई... उन्ही का स्वरूप बनती जा रही हूँ... और अब उनके स्नेह का आकर्षण मुझे खींच रहा है अपनी ओर... मैं बूँद समाती जा रही हूँ उस सागर में...*

 

 _ ➳  *देर तक कम्बाइंड स्वरूप की गहरी अनुभूति*... और अब मैं आत्मा अपने गहरे अनुभवों के साथ, लौट रही हूँ साकार तन और साकारी दुनिया की ओर... *देह में अवतरित मैं आत्मा अब भी कम्बाइंड स्वरूप की गहरी और ठहरी अनुभूतियों के साथ*... शिव शक्ति के रूप में बापदादा का हर सेवा में सहयोग अनुभव कर रही हूँ...

 

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

 

_⊙  आप सभी बाबा के प्यारे प्यारे बच्चों से अनुरोध है की रात्रि में सोने से पहले बाबा को आज की मुरली से मिले चार्ट के हर पॉइंट के मार्क्स ज़रूर दें ।

 

ॐ शांति

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━